गुर्दे की पथरी के लिए 14 प्राकृतिक घरेलू उपचार

Health Insurance Plans Starts at Rs.44/day*

परिचय

गुर्दे की पथरी आमतौर पर खनिजों और नमक के जमाव से बनती है जो आपके गुर्दे के अंदर बनते हैं। इन्हें रीनल कैलकुली, नेफ्रोलिथियासिस या यूरोलिथियासिस भी कहा जाता है।

शरीर का अतिरिक्त वजन, अस्वास्थ्यकर आहार, कुछ सप्लीमेंट्स और दवाएँ गुर्दे की बीमारियों का कारण बन सकते है।

गुर्दे की पथरी आपके मूत्र मार्ग के किसी भी हिस्से में हो सकती है। अक्सर पथरी तब बनती है जब मूत्र गाढ़ा हो जाता है, जिससे खनिज पदार्थ क्रिस्टलीकृत हो जाते है और छोटे क्रिस्टल या पत्थर बन जाते है।

हालाँकि, गुर्दे की पथरी निकलना दर्दनाक होता है और अगर इसका जल्दी इलाज किया जाए तो इससे कोई स्थायी क्षति नहीं होती है।

गुर्दे की पथरी का उपचार उसकी गंभीरता पर निर्भर करता है। उपचार में दर्द को कम करने के लिए दवाएँ लेना या गुर्दे की पथरी को दूर करने के लिए बहुत सारा पानी पीना शामिल है। गंभीर मामलों में, गुर्दे की पथरी मूत्राशय में फंस जाती है और संक्रमण का कारण बनती है, तब पथरी को हटाने के लिए सर्जरी की आवश्यकता होती है।

गुर्दे की पथरी के कारण

वैसे तो गुर्दे की पथरी होने का कोई निश्चित कारण नहीं है। पथरी बनने के कई कारण हो सकते है जिनमें शामिल है,

* कम पानी पीना

* बहुत अधिक या बहुत कम व्यायाम करना

* मोटापा

* वजन घटाने की सर्जरी

* अधिक नमक या चीनी का सेवन करना

* बहुत अधिक फ्रुक्टोज खाना

* संक्रमण और पारिवारिक इतिहास

* कैल्शियम की कमी वाला आहार लेना

* सूजन संबंधी आंत्र रोग

* हाइपरपैराथायरायडिज्म

* टाइप 2 डायबिटीज

* सोडियम युक्त आहार

गुर्दे की पथरी के लक्षण

गुर्दे की पथरी आकार में अलग-अलग होती है। वे रेत जितनी छोटी, पत्थर जितनी बड़ी या गेंद के आकार की भी हो सकती है। हालाँकि, जब पथरी बड़ी हो तो लक्षण अधिक ध्यान देने योग्य होते है। कुछ सामान्य लक्षणों में शामिल है,

* पीठ के निचले हिस्से के दोनों तरफ तेज दर्द

* लगातार पेट दर्द रहना

* पेशाब में खून आना

* उल्टी या जी मिचलाना

* बुखार और ठंड लगना

* पेशाब से दुर्गंध आना

* बादलयुक्त या पीला मूत्र

गुर्दे की पथरी में रुकावट या जलन होने पर दर्द होने लगता है। इसके परिणामस्वरूप गंभीर दर्द होता है। हालाँकि, ज्यादातर मामलों में गुर्दे की पथरी बिना किसी क्षति या गंभीर दर्द के मूत्र के माध्यम से निकल जाती है।

गुर्दे की पथरी का इलाज करने के घरेलू उपाय

पानी

हाइड्रेटेड रहना किडनी की पथरी से लड़ने का सबसे अच्छा तरीका है। खूब पानी पीने से गुर्दे की पथरी को बाहर निकालने में मदद मिलती है।

पानी के सेवन करने से पथरी निकलने की प्रक्रिया तेज हो सकती है। पथरी को बाहर निकालने के लिए हमें प्रतिदिन लगभग 12 गिलास पानी पीना चाहिए।

अधिक मात्रा में पानी पीने से मूत्र उत्पादन में वृद्धि होती है और पथरी बनने का खतरा भी कम हो जाता है।

अनार का जूस

अनार का जूस गुर्दे की संपूर्ण कार्यप्रणाली को बेहतर बनाने का सबसे अच्छा घरेलू उपाय है। फल में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट आपके गुर्दे को स्वस्थ रखते है और किडनी में पथरी को बनने से रोकते है।

जूस मूत्र की एसिडिटी के स्तर को कम करता है और भविष्य में गुर्दे की पथरी बनने के खतरे को कम करता है।

तुलसी के पत्ते

तुलसी के पत्ते किडनी के संपूर्ण स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद होते है। पोषण विशेषज्ञों के अनुसार, दिन में दो से तीन पत्तियां चबाने से गुर्दे की पथरी के कारण होने वाली परेशानी या दर्द कम हो सकता है।

आप एक चम्मच तुलसी के पत्तों के रस में 1 चम्मच शहद मिलाकर रोजाना सुबह इसका सेवन कर सकते है। तरल पदार्थ गुर्दे की पथरी को बाहर निकालने में आपकी मदद कर सकता है।

राजमा

किडनी बीन्स (फेज़ियोलस वल्गेरिस) फलियों की एक सामान्य किस्म है, जिसका नाम किडनी के आकार और लाल रंग के कारण रखा गया है। भारत में इसे आमतौर पर राजमा के नाम से जाना जाता है।

राजमा प्रोटीन और फाइबर से भरपूर होता है, जो इसे सब्जियों की तरह ही स्वास्थ्यवर्धक बनाता है। फलियों में ग्लाइसेमिक इंडेक्स कम होता है, जो डायबिटीजवाले लोगों के लिए अच्छा है। राजमा में मौजूद विटामिन बी गुर्दे की पथरी को घोलकर बाहर निकालने में मदद करता है।

तेज पत्ता

तेजपत्ता मूत्रवर्धक के रूप में कार्य करता है, जो किडनी के स्वास्थ्य को बेहतर बनाने में मदद करता है। अध्ययनों के अनुसार, तेज पत्ता शरीर में यूरिया के स्तर को कम करके गुर्दे की पथरी को रोकने में मदद कर सकता है। यूरेज़ एक एंजाइम है जो नियंत्रण से बाहर होने पर विभिन्न गैस्ट्रिक विकारों का कारण बनता है।

हालाँकि, गुर्दे की पथरी पर तेज पत्ते की प्रभावशीलता को निर्धारित करने के लिए और अधिक अध्ययन किए जाने चाहिए।

पार्सले

गुर्दे की पथरी खनिज और सोडियम जमा से बनी होती है जो आपकी पीठ और पेट में गंभीर दर्द का कारण बनती है। पार्सले में मूत्रवर्धक पाया जाता है, जो पेशाब बढ़ाता है और पथरी बनने से रोकता है।

पार्सले की चाय पीने से मूत्र उत्पादन को बढ़ावा देकर और जहरीले पदार्थों को बाहर निकालकर आपकी किडनी को साफ किया जा सकता है, जो किडनी की पथरी को बाहर निकालने में मदद करता है।

पार्सले की चाय बनाने का तरीका:

* एक मग या चायदानी में पार्सले की कुछ ताज़ा किस्में ले।

* पार्सले की पत्तियों के ऊपर एक कप उबलता पानी डाले।

* पानी और पार्सले को 5 से 10 मिनट तक ऐसे ही छोड़ दे।

* चाय से पत्तियां छान लें और गरमागरम परोसे।

सिंहपर्णी की जड़ें

सिंहपर्णी की जड़ें एक प्रभावी औषधि है जो पाचन में मदद करती है, पेशाब बढ़ाती है और शरीर से जहरीले पदार्थों को बाहर निकालती है।

सिंहपर्णी की जड़ में विटामिन ए, बी, सी और डी से भरपूर होते हैं और इसमें आयरन, जिंक और पोटेशियम जैसे खनिज होते हैं। हालाँकि, केवल थोड़ी मात्रा में सिंहपर्णी की जड़ के सेवन की सिफारिश की जाती है। कुछ लोगों को सिंहपर्णी की जड़ से एलर्जी हो सकती है। इसलिए, इसका सेवन करने से पहले अपने डॉक्टर से जांच करवा ले और सलाह ले।

सेब का सिरका

सेब का सिरका गुर्दे की पथरी के इलाज के लिए सबसे लोकप्रिय घरेलू उपचारों में से एक है। सेब के सिरके में मौजूद एसिटिक एसिड गुर्दे की पथरी को नरम करने, तोड़ने और घोलने में मदद करता है।

ऐसीवि पथरी के आकार को कम कर देता है और उन्हें आपके मूत्र के माध्यम से आसानी से बाहर निकाल देता है।

गेहूं के ज्वारे

गेहूं के ज्वारे एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर होते है जो पथरी बनाने वाले खनिजों और लवणों को बाहर निकालने में मदद करता है। मूत्रवर्धक होने के कारण, यह पेशाब को बढ़ाता है और इस तरह गुर्दे की पथरी को बाहर निकालने में मदद करता है।

रोजाना गेहूं के ज्वारे के जूस का सेवन गुर्दे की पथरी के इलाज में कारगर है।

सेलेरी

सेलेरी सदियों से गुर्दे की पथरी के इलाज के लिए इस्तेमाल की जाने वाली पारंपरिक दवाओं में से एक है। सेलेरी फ्लेवोनोइड्स से भरपूर होती है, जो आपके गुर्दे में बनने वाले कैल्शियम क्रिस्टल को तोड़ सकती है।

रोजाना सेलेरी के जूस का सेवन गुर्दे की पथरी के लिए कारगर साबित हुआ है। हालाँकि, अन्य दवाओं के साथ मिलाने पर इसके कुछ दुष्प्रभाव हो सकते है। किसी भी घरेलू उपाय का सेवन करने से पहले अपने डॉक्टर से परामर्श करने की सलाह दी जाती है।

नींबू का जूस

नींबू का जूस गुर्दे की पथरी के लिए फायदेमंद है। साइट्रेट, साइट्रिक एसिड में मौजूद एक नमक, कैल्शियम को बांधता है और पथरी बनने से होने वाली रुकावट को रोकता है।

प्रतिदिन आधा कप नींबू का जूस पीने से मूत्र में साइट्रेट का स्तर बढ़ सकता है और गुर्दे में पथरी बनने का खतरा कम हो जाता है।

नारियल का तेल

नारियल तेल के कई स्वास्थ्य लाभ है। यह बाल, त्वचा और मधुमेह के लिए अच्छा है। यह गुर्दे संबंधी विकारों से लड़ने में मदद करता है, जिसमें किडनी सिस्ट, किडनी स्टोन, मूत्र पथ के संक्रमण और क्रोनिक किडनी विकार शामिल हैं।

वर्जिन नारियल तेल नारियल के दूध या मांस से प्राप्त किया जाता है। यह लॉरिक एसिड से भरपूर है और संतृप्त फैटी एसिड का एक अच्छा स्रोत है।

ये स्वस्थ संतृप्त एसिड गुर्दे की पथरी की रोकने में और इलाज करने में मदद करता है।

हॉर्सटेल चाय

हॉर्सटेल का उपयोग मूत्रवर्धक के रूप में किया जाता है, जो मूत्र उत्पादन के प्रवाह को बढ़ाता है और गुर्दे में पथरी के निर्माण को कम करता है।

हॉर्सटेल में मौजूद रसायनों में एंटीऑक्सीडेंट और एंटी-इंफ्लेमेटरी प्रभाव होते है। यह द्रव प्रतिधारण में भी मदद करता है और किडनी के स्वास्थ्य को बढ़ावा देता है।

जिन लोगों ने हॉर्सटेल का सेवन किया उन्हें पेशाब में वृद्धि का अनुभव हुआ है, जिससे उन्हें किडनी के विकारों के कारण होने वाली कठिनाइयों को कम करने में मदद मिली।

बिच्छू बूटी के पत्ते

बिच्छू बूटी एक प्राकृतिक जड़ी बूटी है जो विभिन्न स्वास्थ्य समस्याओं का इलाज करती है। यह एलर्जी, किडनी संबंधी विकार, मूत्र पथ के संक्रमण और बहुत सारे इलाज करती है।

बिच्छू बूटी की पत्ती की चाय मूत्रवर्धक और शुद्ध करने वाली होती है। यह क्रिएटिनिन और यूरिक एसिड को निष्क्रिय करके, पित्ताशय की पथरी को घोलकर, पेशाब बढ़ाने और गुर्दे के संक्रमण और सूजन को नियंत्रित करके रक्त शुद्धि में मदद करता है।

घर पर बिछुआ चाय कैसे बनाएं?

एक बर्तन में बिछुआ की कुछ पत्तियां डाले।

पत्तों में 4 कप पानी डाल दीजिये।

पानी उबालें, फिर 15 मिनट तक धीमी आंच पर पकने दे।

यदि आवश्यकता हो तो चीनी या शहद मिलाएं और गर्मागर्म परोसे।

डॉक्टर को कब दिखाना चाहिए?

यदि किसी को निम्नलिखित लक्षणों का अनुभव हो तो डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए:

* गंभीर पीठ दर्द या पेट दर्द होना

* बार-बार उल्टी होना या जी मिचलाना

* बुखार या ठंड लगना

* पेशाब में खून आना

* मूत्र पथ के संक्रमण

* पेशाब करने में कठिनाई होना

निष्कर्ष

गुर्दे की पथरी को अपने आप दूर करना कठिन और दर्दनाक होता है, लेकिन भरपूर पानी पीने से आपको गुर्दे की बीमारियों के इलाज में मदद मिल सकती है।

किसी भी घरेलू उपचार, जड़ी-बूटी या सप्लीमेंट का सेवन करने से पहले, अपने डॉक्टर से जांच करना आवश्यक है।

जीवनशैली में बदलाव और आहार योजनाओ के बारे में अपने डॉक्टर से बात करें, जो किडनी विकारों के जोखिम को कम करने में मदद कर सकते है।

पूछे जाने वाले प्रश्न

गुर्दे की पथरी को तेजी से क्या घोलता है?

सेब का सिरका एसिटिक एसिड से भरपूर होता है, जो किडनी की पथरी को तेजी से खत्म करने में आपकी मदद कर सकता है। इससे पथरी के कारण होने वाला दर्द भी कम हो जाता है। ACV में मौजूद एसिटिक एसिड गुर्दे की पथरी को नरम करने, तोड़ने और घोलने में मदद करता है। ACV पथरी के आकार को कम कर देता है और उन्हें आपके मूत्र के माध्यम से आसानी से बाहर निकाल देता है।

क्या मैं गुर्दे की पथरी के इलाज के लिए नारियल पानी का उपयोग कर सकता हूँ?

नारियल पानी पोटेशियम का एक समृद्ध स्रोत है, जो गुर्दे की पथरी को घोलने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। नारियल पानी में मौजूद पोटेशियम मूत्र को क्षार के गुणवाला बनाने में मदद करता है, जिससे गुर्दे में पथरी बनने से रोका जा सकता है।

गुर्दे की पथरी के लिए आयुर्वेदिक उपचार क्या है?

आयुर्वेद गुर्दे की पथरी से लड़ने के लिए मूत्रवर्धक जड़ी-बूटियों के सेवन का सुझाव देता है। गुर्दे की पथरी के इलाज के लिए आयुर्वेद में तीन प्रकार की दवाओं की सिफारिश की जाती है।

1. मुत्रविरेचनिया

2. अश्मरिघ्न द्रव्य

3. क्षर कर्म

गुर्दे की पथरी को नष्ट करने के लिए मैं क्या पी सकता हूँ?

यहां कुछ पेय पदार्थ दिए गए हैं जो किडनी की पथरी के लिए फायदेमंद साबित होते है।

1. पानी

2. सेब का सिरका

3. अजवाइन की चाय

4. नींबू का रस

5. बिछुआ चाय

6. अनार का जूस

7. पार्सले चाय


DISCLAIMER: THIS BLOG/WEBSITE DOES NOT PROVIDE MEDICAL ADVICE

The Information including but not limited to text, graphics, images and other material contained on this blog are intended for education and awareness only. No material on this blog is intended to be a substitute for professional medical help including diagnosis or treatment. It is always advisable to consult medical professional before relying on the content. Neither the Author nor Star Health and Allied Insurance Co. Ltd accepts any responsibility for any potential risk to any visitor/reader.

Scroll to Top